palampur

Best No1 Palampur Tourist Places & Famoum Food

Best No1 Palampur Tourist Places & Famoum Food

हिमाचल प्रदेश के पालमपुर में प्रमुख पर्यटन स्थल के बारे में जानेंगे और यहां आने-जाने और यहां के प्रसिद्ध भजनों के बारे में भी जानेंगे तो दोस्त बने रहिए टूरिंग प्लेस के बारे में जानने के लिए।

palampur | पालमपुर

palampur
palampur

पालमपुर भारत के हिमाचल प्रदेश राज्य के कॉंगड़ जिले में मैं इस दिन एक गांव है। यह एक चीर के वृक्ष से ढका हुआ और झरनों से भरपूर ही हमसे ढके धोलाधारा पर्वतों के बीच स्थित एक हिल स्टेशन और पर्यटन स्थल के रूप में जाने जाते हैं। यहां चाय का बागान सबसे प्रसिद्ध माना जाता है। यहां पर पर्यटन स्थल के साथ-साथ पालमपुर में वैज्ञानिक एवं औद्योगिक अनुसंधान परिसर का केंद्र है यहां पर हिमालयन जैवसंसाधन स्थान है। इन सभी के अलावा हिमाचल प्रदेश कृषि विश्वविद्यालय श्री साईं यूनिवर्सिटी पशु चिकित्सालय पालमपुर होटल यह सभी शिक्षण संस्थान के कारण भी देश विदेश के विद्यार्थी के लिए पालमपुर आकर्षण का केंद्र बना हुआ है। पालमपुर को पहली बार अंग्रेज द्वारा देखा गया था। उसके बाद इसे एक व्यापार और वाणिज्य के केंद्र के रूप में बदल दिया गया था। इस शहर में स्थित विक्टोरियन शैली की हवेली और महल बेहद खूबसूरत देखने के लिए मिलता है। यदि आप लोग हिमाचल प्रदेश की शेर के लिए जा रहे हैं तो पालमपुर जाना ना भूलें क्योंकि यहां के वातावरण और घूमने वाली पर्यटन स्थल यहां के प्रसिद्ध जाए भगवान हैं जो पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करता है। Palampur Tourist Places 

the story of village palampur | पालमपुर गांव की कहानी

palampur himachal pradesh (पालनपुर हिमाचल प्रदेश) में धर्मशाला के कुछ किलोमीटर की दूरी पर स्थित है ज्योति छोटा पहाड़ी सभी कहा जाता है। या अपनी धोलाधारा पर्वतमाला के शानदार दृश्य के लिए प्रसिद्ध माना जाता है। पालमपुर को उत्तर के चाय बागान के रूप में भी प्रसिद्ध है। यहां पर पर्यटक जय भगवान के अंतहीन शेर मैदान को देखने जाते हैं। यहां के वातावरण ताजगी से भरा हुआ रहता है। इन सभी के अलावा गोपालपुर चिड़ियाघर पालमपुर का सबसे प्रसिद्ध पर्यटन स्थल है। जो धर्मशाला से पालनपुर मार्ग पर स्थित है। चिड़ियाघर में पाई जाने वाली वनस्पति और जीवो की सुंदरता के साथ बर्फ से ढकी धोलाधारा पर्वतमाला भी इस जगह को सुंदर प्रदान करती दिखाई देती है। palampur hotels पालनपुर घूमने वाले पर्यटकों के लिए यहां के बहुत बड़े बड़े होटल्स में मौजूद है जो कि पर्यटकों को बहुत सुविधा दी जाती है और यहां के काम करने वाले होटल में बढ़िया पर्यटक को को बहुत अच्छी तरह से स्वागत करते हैं। palampur weather यहां का मौसम बहुत ही अनुकूल रहता है। palampur temperature यहां पर तापमान बहुत ही सुखद रहता है जिससे घूमने वाले पर्यटकों को बहुत आनंद आते हैं। Palampur Tourist Places 

resorts in palampur

Rakkh Resort

RS Sarovar Portico

Araiya Palampur

Rakkh Resort

Norwood Green Resort by Lamrin

Infinitea Sports Club & Tea Garden Resort

Mastiff Villa Camellia

places to visit in palampur | पालमपुर के आसपास प्रमुख पर्यटन स्थल

tashi jong monastery | ताशी जोंग मठ

इस मठ में ना ही केवल बौद्ध के लिए पुजे जाने वाले केंद्र है। बल्कि यहां पर विभिन्न तिब्बती धर्म के लोग पूजने के लिए आते हैं। यह परिसर में फ्रेशर्स के लिए एक कॉलेज और मुख्य मंदिर के बगल में होटल्स के लिए भी जाने जाते हैं। यह स्थान तिब्बतियों द्वारा की गई बरसों से बसा हुआ यह स्थान है। यहां पर शांति का बहुत एहसास दिलाता है। जो पर्यटकों के लिए स्मृति चीन के रूप में खरीदने के लिए आदर्श स्थान है। पालमपुर की यात्रा करने वाले लगभग सभी पर्यटक इस्मार्ट का दौरा करने के लिए जाते हैं। Palampur Tourist Places 

Tea gardens in Palampur | चाय के बागान पालमपुर

Tea gardens
Tea gardens

Palampur Tourist Places  पालनपुर को उत्तरी भारत की चाय राजधानी के रूप में प्रसिद्ध मानते हैं। यह पूरे देश भर में चाय के भगवानों के लिए प्रसिद्ध माना जाता है। यहां स्थित चाय के बागान पालमपुर का मुख्य आकर्षण केंद्र है। पालमपुर चाय बागानों और चाय बनाने की प्रक्रिया को बड़े रूप में देखने के लिए एकदम सही जगह माना जाता है। यहां के हरे-भरे भवनों में जब आप अपने कदम रखते हैं तो आपको ऐसा लगता है जैसे आप सपनों की दुनिया में खो गए हैं। या हरे-भरे बकानो दिव्या सुगंध आपको स्वर्ग के समान एहसास कराती है। पालमपुर में चाय के बागान घूमने जाने वाले पर्यटक और प्रकृति प्रेमियों के लिए बहुत खास जगह मानी जाती है। यहां 19वीं शताब्दी में इस क्षेत्र में जवानों की अवधारणा शुरू की गई थी। यह स्थान अपने विशेष चाय के लिए प्रसिद्ध माना जाता है यहां चाय की क्वालिटी इतनी अच्छी होती है कि इसका 90% देश के बाहर निर्यात (भेजा जाता) किया जाता है। यदि आप पालमपुर की यात्रा कर रहे हैं तो यहां के चाय के बागानों में एक बार अवश्य घूमने के लिए जाएं। Palampur Tourist Places 

tea garden (जय बागान) यहां की यात्रा करने वाले पर्यटकों को जय भगवानों की शेयर करना कभी ना भूले यहां आकर हरे-भरे चाय के बागान को लुभाने वाले दृश्य को जरूर देखें। tea garden images (चाय बागान दृश्य) यहां पर आने वाले पर्यटक भगवानों में कुछ शानदार तस्वीर भी खींचते हैं। यहां के चाय के बागान में एक झोपड़ियों में गर्म कांगड़ा चाय के एक कप का स्वाद लेना भी बेहतर साबित होता है। tea garden background (चाय भगवान की पृष्ठभूमि) यहां पर घूमने वाले पर्यटकों के लिए बहुत ही आकर्षक होती है। यहां के उद्योगों में पैदा होने वाली चाय को विभिन्न ब्रांड नाम हो के तरह मार्च किया जाता है। जैसे डाबरी वगेश्वरी बाहर और मल्हार इत्यादि इन सभी ब्रांडों का नाम भारतीय शास्त्रीय संगीत के विभिन्न रागों के नाम पर रख दिया जाता है। यहां पर कहीं भी चाय रखने से सीधे इन ब्रांडों को खरीद सकते हैं। Palampur Tourist Places 

saurabh van vihar | सौरभ वन विहार

यह स्थान कारगिल शहीद लेफ्टिनेंट सौरभ कारगिल की स्मृति में हिमाचल प्रदेश राज्य की सरकार ने पालमपुर में 35 एकड़ क्षेत्र में सौरभ वन विहार नामक एक पार्क का निर्माण करवाया था। यह पार्थ 13 किलोमीटर क्षेत्र में फैला हुआ है। saurabh van vihar palampur (सौरभ वन विहार पालमपुर) यह एक प्राकृतिक पार्क है जो बहादुर सैनिक सौरभ कालिया कारगिल युद्ध में शहीद हुए थे यह पार्क क्वाट गांव में बरसे धक्के हुए युगल खंडर के किनारे पर स्थित है। स्थान मनोरंजन के लिए एक आदर्श स्थान के रूप में जाने जाते हैं। सौरभ वन विहार पालमपुर से लगभग 4 किलोमीटर दूरी पर स्थित है। इस बार के में प्रकृति की सुंदरता और पौधों की विभिन्न किस्म के साथ बढ़िया दिखे जाते हैं। इस पार्क में पक्षी की प्रजातियों रहने के लिए स्थान देती है। Palampur Tourist Places 

neugal khad | नेगल खड

neugal khad palampur (नेगल खड पालमपुर) से लगभग 3 किलोमीटर दूरी बाती छोटी सी नदी का नाम से जाना जाता है। यह स्थान पालमपुर के खूबसूरती ओं में चार चांद लगा देती है। यहां पर आने वाले पर्यटक हो या स्थानीय लोगों के बीच पिकनिक मनाने के लिए लोकप्रिय स्थान माना जाता है। इस धारा के ऊपर एक लोहे का पुल भी है जो बहुत पुराना है। धोलाधारा पर्वतमाला के विकास मारो और उन पहाड़ों के बीच से भर्ती इस नदी की छाती आवाज को सुनकर पर्यटक आकर्षित हो जाते हैं। इस पुल पर से फोटोग्राफी करने के लिए बहुत अच्छी जगह होनी जाती है। सबसे अच्छी बात तो यह है कि यहां के आसपास कई कैफे और खाने की जगह भी है। andretta pottery (एंड्रेटा मिट्टी के बर्तन) यहां के स्थानीय भोजन परोसने वाले मिट्टी के बर्तन काफी प्रसिद्ध माना जाता है। मिट्टी के बर्तन में खाने से बहुत सुधर आता है और खाने के लिए भी खाना स्वादिष्ट लगता है। Palampur Tourist Places 

baijnath temple | बैजनाथ मंदिर

baijnath temple himachal pradesh (हिमाचल प्रदेश) में सबसे लोकप्रिय मंदिर में से बैजनाथ मंदिर माना जाता है। यहां पर भगवान शिव को हीलिंग के देवता के रूप में पूजा जाता है। बैजनाथ या बैद्यनाथ भगवान शिव का एक अवतार है। इस अवतार में वह अपने भक्तों के सभी दुखों और पीड़ाओं को दूर करती है। यह मंदिर भगवान शिव के भक्तों के लिए बहुत महत्व रखता है। इस मंदिर को बहुत पवित्र माना जाता है यहां के लोगों का मानना है कि इस मंदिर के जल में अशुद्धि गुण पाए जाते हैं जिसमें कई बीमारियों ठीक हो जाती है यह मंदिर में हर साल लाखों श्रद्धालु दर्शन के लिए आते हैं। baijnath mahadev temple (बैजनाथ महादेव मंदिर) पालमपुर का सबसे पवित्र मंदिर है। baijnath temple himachal (बैजनाथ मंदिर हिमाचल) आने वाले पर्यटक इस मंदिर में दर्शन ने के लिए जाते हैं इस मंदिर में पूजा करने से भक्तों की पीड़ा दूर होती है।  Palampur Tourist Places 

naam art gallery | नाम आर्ट गैलरी

naam art gallery dharamshala himachal pradesh (नाम आर्ट गैलरी धर्मशाला हिमाचल प्रदेश) यह व्यवसाय निम्न उद्योग में काम कर रहा है। जो अवकाश गिरी केविन एवं रिजॉर्ट्स के रूप में जाने जाते हैं। norbulingka institute यहां के प्रमुख पर्यटन स्थल में से एक माना जाता है। norbulingka institute dharamsala यहां पर आने वाले पर्यटक इस स्थान पर जरूर घूमने के लिए जाते हैं क्योंकि यह शांत वातावरण वाले स्थानों में से एक माना जाता है। Palampur Tourist Places 

chamunda devi temple history in hindi | चामुंडा देवी मंदिर इतिहास हिंदी में

chamunda devi temple (चामुंडा देवी मंदिर) हिमाचल प्रदेश राज्य के चंबा जिले में स्थित एक प्राचीन मंदिर के रूप में जाना जाता है। या मंदिर पर्यटक ओके लिए एक प्रमुख आकर्षक स्थल है। chamunda devi temple himachal pradesh (चामुंडा देवी मंदिर हिमाचल प्रदेश) का निर्माण 17 से 62 में उमेद सिंह ने करवाया था। यह मंदिर पाटीदार और लाहला के जंगल स्थित यह मंदिर पूरी तरह से लकड़ी से बनाई गई है। यह मंदिर नदी के तट पर स्थित देवी काली को समर्पित है। जिन्होंने युद्ध की देवी के रूप में भी जाना जाता है। himachal pradesh temple chamunda devi (हिमाचल प्रदेश मंदिर चामुंडा देवी) यह मंदिर जहां पर स्थित है पहले इस जगह पर सिर्फ पत्थर के रास्ते कटिंग हुए थे लेकिन अब इस मंदिर के दर्शन करने के लिए आपको 400 सीड इसको चढ़कर जाना होगा। यह मंदिर चंबा से लगभग 3 किलोमीटर लंबी कंक्रीट सरत के माध्यम से सोनीपत पहुंच सकते हैं। Palampur Tourist Places 

shimla toy train | शिमला टॉय ट्रेन

shimla toy train
shimla toy train

toy train (टॉय ट्रेन) यह ट्रेन इतिहास के पन्नों में दर्द और घोषित किया गया काल्पा-शिमला टॉय ट्रेन पर्यटकों के लिए बहुत ही सुंदर यात्रा यात्रा करने के लिए था। शिमला की असली खूबसूरती शहर के साथ-साथ इन पहाड़ों में भी है जिसके बीच से train toy (टॉय ट्रेन) गुजरती है। टॉय ट्रेन की रेलवे रूट 1903 में ब्रिटिश सेना द्वारा बनवाया गया था। उस दौर में शिमला अंग्रेज के बीच काफी चर्चित माना जाता था। चोरी के जंगलों और पथरीले पहाड़ों के साथ कई झरनों सुरंग और छोटी गंगा भी शामिल है। शिमला के रास्ते में kalka to shimla toy train (काल्का से शिमला टॉय ट्रेन) बीच की सफर लगभग 96 किलोमीटर की रहती है। और 20, स्टेशन 103, सुरंग 800, ब्रिज और 900 घुमावदार मोड़ है। यदि आप शिमला घूमने जाते हैं तो आपके पास ज्यादा समय है तो रेलवे रूट का आनंद जरूर ले। toy train in india (भारत में टॉय ट्रेन) हिमाचल प्रदेश में शिमला में चलने वाली ट्रेन प्रसिद्ध है। best toy train from kalka to shimla (काल्का से शिमला के लिए बेहतरीन टॉय ट्रेन) काल्का से शिमला के बीच चलने वाली ट्रेन दो रेगुलर पैसेंजर ट्रेन और तीन टूरिस्ट ट्रेन चलती है। Palampur Tourist Places 

  • शिवालिक डीलक्स एक्सप्रेस- यह ट्रेन प्रीमियम ट्रेन है जो एक बार में 120 पैसेंजर को बैठ आती है यह सिर्फ एक ही स्टॉपेज है। इसमें यात्रियों को खाने की भी सुविधा दी जाती हैं।
  • हिमालयन क्वीन- यह टॉय ट्रेन नॉर्मल पैसेंजर ट्रेन है इसके 9 स्टॉपेज है और खाने की सुविधा बिल्कुल नहीं है।
  • रेल मोर्टार कार इस ट्रेन में सिर्फ 14 यात्री बैठ सकते हैं। इसमें यात्रियों के लिए। इस ट्रेन में सिर्फ वीआईपी लोग हैं यात्रा कर सकते हैं।
  • काल्का-शिमला पैसेंजर ट्रेन इस ट्रेन में सिर्फ ऐसी उपलब्ध है लेकिन इसकी ज्यादा जरूरत नहीं होती है यह बहुत ज्यादा भीड़ वाली ट्रेन है। यह यह सभी ट्रेन है जुलाई सितंबर अक्टूबर और दिसंबर जनवरी में चलती हैं।

पालमपुर का स्थानीय प्रसिद्ध भोजन | local famous food in palampur

Palampur Tourist Places
Palampur Tourist Places

हम आपको बता दें कि पालमपुर में पर्यटन धीरे-धीरे बढ़ ही रहा है। यहां पर खाने के लिए कई विकल्प मिल सकते हैं। पहाड़ियों और जैन भोजन अच्छी तरह से उपलब्ध की जाती है। यहां के कई होटल्स में उत्तर भारतीय, चीनी और कॉन्टिनेंटल भोजन को परोसा जाता है। इन सभी के अलावा पालमपुर का स्थानीय भोजन के तत्व और स्वाद को बढ़ावा देती है। यहां का सबसे लोकप्रिय स्थानीय भोजन रिपू वड़ी, भटूरा, चना मद्रा, ट्राउन मछली, मीठे चावल, पटंडे, मोमोज, कड्डू का खट्टा, चिकन अनारदाना, नूडल्स यह सभी भोजन यहां के स्थानीय होटल में परोसे जाते हैं। यह सभी भोजन यहां का सबसे प्रसिद्ध भजनों में से एक माना जाता है। Palampur Tourist Places 

पालमपुर घूमने का सबसे अच्छा समय | best time to visit Palampur

 पालमपुर पहाड़ों और जंगलों के बीच स्थित जहां पूरे साल में सुखद मौसम का अनुभव होते रहता है। यहां पर गर्मिय के दिनों में केवल 30 डिग्री तक तापमान बढ़ता है जबकि मॉनसून के हल्की बारिश होते ही सर्दियों के समय यहां का तापमान 0 हो जाते हैं। पालमपुर की यात्रा करना सबसे अच्छा बात तो यह है कि यहां का यात्रा करने का सबसे अच्छा समय मार्च और जून के बीच गर्मियों के मौसम की शुरुआत में मानी जाती है। सितंबर से नवंबर के शुरूआत और सर्दियों की यात्रा के लिए एक सुखद समय होता है। सर्दियों में बर्फ जमने लगती है लेकिन अगर आप रोमांचक की तलाश में है तो या अस्त और आपके लिए बिल्कुल सही जगह है। यहां पर गर्मी और सर्दियों में पर्यटक घूमने के लिए आते हैं। Palampur Tourist Places 

How to reach Palampur

पालमपुर के सबसे निकटतम रेलवे स्टेशन ब्रॉड गेज रेलवे स्टेशन है जो कि पठानकोट में स्थित है। यह पालमपुर से लगभग 120 किलोमीटर दूरी पर स्थित है। आप यहां से नजदीकी वाहन के माध्यम से पालमपुर आसानी से पहुंच सकते हैं। यदि आप हवाई मार्ग के माध्यम से पालमपुर की यात्रा करना चाहते हैं तो हम आपको बता दें कि पालमपुर के सबसे निकटतम हवाई अड्डा गग्गल हवाई अड्डा है जोकि पालमपुर से लगभग 25 किलोमीटर दूरी पर स्थित है। गग्गल हवाई अड्डा देश के अधिकांश हवाई अड्डा के साथ अच्छी तरह से जुड़ी हुई है। यदि आप पालमपुर की यात्रा ट्रेन मार के माध्यम से करना चाहते हैं तो यहां के सबसे निकटतम रेलवे स्टेशन पठानकोट रेलवे स्टेशन है। यदि आप सड़क मार के माध्यम से पालमपुर की यात्रा करना चाहते हैं तो हम आपको बता दें कि यहां के सड़क मार्ग हिमाचल प्रदेश के सभी प्रमुख शहरों से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है हिमाचल प्रदेश से धर्मशाला मनाली चंडीगढ़ और कई सारे से चलती बस से हैं जोकि यहां तक आपको आसानी से पहुंचा देगी। Palampur Tourist Places 

Best No1 Narkanda Tourist Places & Famoum Food

निष्कर्ष

तो दोस्त आज हमने इस आर्टिकल में पालमपुर के प्रमुख पर्यटन स्थल के बारे में जाना यदि आपको हमारी आर्टिकल अच्छी लगी हो तो आप हमें कमेंट बॉक्स में बताना ना भूलें। इसी तरह के अन्य जानकारी लाता रहता हूं आप हमारे इस टूरिज्म प्लेस के बारे में जानने के लिए बने रहे।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!