No menu items!

Mandi Tourist places & Famous Food

हिमाचल प्रदेश के प्रमुख पर्यटन स्थल मंडी जिले के बारे में जानेंगे और यहां के आसपास स्थानों के बारे में भी जानेंगे। तो दोस्त बने रहिए टूरिज्म प्लेस के बारे में जानने के लिए।

mandi | मंडी

mandi himachal pradesh (मंडी हिमाचल प्रदेश) राज्य के मंडी जिला है। इस जिला का पूर्व नाम मंडावर नगर था। या जिला के मुख्यालय भी कहा जाता है। और यह जिला ब्यास नदी के किनारे बसा हुआ हिमाचल का एक महत्वपूर्ण धार्मिक और सांस्कृतिक केंद्र के रूप में भी जाना जाता है। मंडी जिला जनसंख्या के मामले में शिमला के बाद यह राज्य का दूसरा सबसे बड़ा जिला है। इस जिला में नगर राज्य की राजधानी शिमला से लगभग 145 किलोमीटर उत्तर में स्थित है। यह पर्यटन की दृष्टि से महत्वपूर्ण स्थान के रूप में जाने जाते हैं। यहां आयोजित नवरात्रि मेला सबसे प्रसिद्ध माना जाता है। इसे वाराणसी ऑप हिल्स या छोटी कोसी या हिमाचल की खुशी के रूप में भी जाना जाता है। यह एक धार्मिक स्थल के रूप में भी जाना जाता है क्योंकि यहां पर 81 मंदिर कुल मिलाकर है। मंडी नगर की स्थापना अजबर सेन द्वारा 1527 ईस्वी में की गई थी। यहां पर गर्मियों के दिन में सुखद और सर्दियों में काफी ठंड रहता है यहां पर कई पुराने महल और वास्तुकला के उल्लेखनीय उदाहरण के अवशेष है। राजमार्ग मंडी को पठानकोट मनाली और चंडीगढ़ से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। इस शहर का नाम ऋषि मांडव पर पड़ा था। जो यहां के चट्टानों उनकी तपस्या की गंभीरता के कारण काली हो गई है।

mandi bhav (मंडी भव) व्यास नदी के किनारे बसा हुआ है या एक ऐतिहासिक नगर है यहां पर विभिन्न प्रकार की गतिविधियों का केंद्र के रूप में भी जाना जाता है। यह समुद्र तल से 760 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। हिमाचल के तेजी से विकसित होते शहरों में से एक माना गया है। मंडी शहर का नाम संस्कृति शब्द से मंडोइका सब से बनाई गई है इस शब्द का अर्थ खुला क्षेत्र होता है। यहां पर घूमने के लिए बहुत सारी धार्मिक स्थान भी मौजूद है। इसीलिए मंडी शहर को धर्म स्थल के रूप में भी जाना जाता है। mandi weather यहां का मौसम बहुत ही सुखद रहता है। मंडी में शिक्षा का भी बहुत बड़ा केंद्र है। यहां पर बहुत बड़े-बड़े विश्वविद्यालय भी मौजूद हैं। iit mandi यहां पर इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी का एक बड़ा कॉलेज बनाया गया है यहां पर शिक्षा के लिए देश के विभिन्न शहरों से छात्र शिक्षण के लिए आते हैं।

prashar lake trek | पराशर झील ट्रैक

prashar lake trek
prashar lake trek

यह झील मंडी से लगभग 45 किलोमीटर दूर उत्तर दिशा में एक खूबसूरत जगह पर स्थित है। इसकी लोकप्रियता का कारण यहां बना एक तमीजिला मंदिर है। यह मंदिर पैगोड़ा शैली में बना संत पराशर को समर्पित है। यह झील हिमाचल प्रदेश के प्राकृतिक जिलों में से एक माना जाता है। पराशर झील मनाली जाने वाले यहां आने वाले पर्यटकों के लिए यह एक सड़क पर ही स्थित है। जो की बहुत ही खूबसूरत है। prashar lake trek in march (मार्च में प्रशर झील ट्रैक) यह झील ट्रेकिंग के लिए भी प्रसिद्ध माना जाता है यहां पर आप ट्रैकिंग के दौरान यहां की खूबसूरती हो को देखकर आप मनमोहित हो जाएंगे। यहां की हरी पहाड़ियों और मैदानों को देखकर पर्यटक बहुत ही आकर्षित हो जाते हैं। इस झील के निकट कई सारी पर्यटन स्थल मौजूद है। पराशर झील के ट्रेकिंग के दौरान यहां पर एक एक प्रसिद्ध मंदिर भी है। मंदिर जाने वाले श्रद्धालु झील से हरी हरी लंबे फर्ननुमा घास की पत्ती निकालते हैं। और इन्हें देवताओं का फूल माना जाता है। पर्यटक अपने पास श्रद्धापूर्वक संभाल कर रखते हैं मंदिर के अंदर प्रसाद के साथ भी यह पत्ती चढ़ा देते हैं। पूजा कक्ष में ऋषि विष्णु शिव व महिषासुर के पूजा करते हैं।

bhutnath temple

यह मंदिर मंडी के बीचो-बीच स्थित इस मंदिर का निर्माण लगभग 1527 में किया गया था यह मंदिर उतना ही पुराना है जितना कि यह शहर मंदिर में स्थापित नंदी बैल की प्रतिमा बुर्ज की ओर देखती प्रतिमा दिखाई देती है। यह मंदिर बहुत खूबसूरत से बनाया गया है यहां पर मार्च के महीने में शिवरात्रि का उत्सव मनाया जाता है जिसमें केंद्र भूतनाथ मंदिर में श्रद्धालु दर्शन के लिए आते हैं। यहां पर शिवरात्रि के उत्सव बहुत धूमधाम से मनाते हैं। इस मंदिर में आने वाले श्रद्धालु अपनी इच्छा अनुसार दान भी करते हैं। यहां पर श्रद्धालुओं को पाप की मुक्ति से प्राप्ति मिलती है। यहां पर आने वाले पर्यटक इस मंदिर को देखकर बहुत ही आकर्षित हो जाते हैं। यह मंदिर एक खूबसूरत जगह पर स्थापित है जहां पर घूमने के लिए बहुत सारी पर्यटन स्थल भी मौजूद हैं।

pandoh dam | पंडोह बांध

यह बांध हिमाचल प्रदेश के मंडी जिले में व्यास नदी पर बनाया गया है। यह बांध व्यास परियोजना के अंतर्गत 1977 में बनकर तैयार हुआ था। इसका मुख्य उद्देश्य पनबिजली बिजली उत्पादन है। और यहां पर रन ऑफ द रिवर पावर योजना का हिस्सा यह सुरंगों और चैनलों की लंबाई लगभग 38 किलोमीटर लंबा प्रणाली के माध्यम से दक्षिण पश्चिम में व्यास के पानी को मारता है। यह दोनों नदियां को जोड़ने वाले सतलज नदी में डिस्चार्ज होने से पहले पानी का उपयोग देहर पावर हाउस पर किया जाता है। यहां के पावर हाउस की स्थापित क्षमता 990 मेगावाट है। प्रणाली 256 सिंचाई व्यास के पानी को सतलुज नदी तक ले जाती है। ओड़िया प्रयोजना को पूरा होकर 1977 में तैयार हो गया था।

यहां पर दो प्रमुख नदी व्यास और सतलुज हिमालय से होकर निकलती है और यह एक बिंदु तक पहुंच जाती है जहां से लगभग 36 किलोमीटर की एक उड़ने की दूरी से अलग हो जाती है और यह लगभग 1099 फीट की ऊंचाई का अंतराल होता है ब्यास का पानी बर्फ से पिघलने और प्रभाव से नियंत्रित प्रभावित होता है इस नदी प्रणाली की छमता का फायदा उठाने के लिए बनाई गई योजना बिजली की क्षमता का अनुसार 1000 मेगावाट था मूल रूप से व्यास परियोजना इकाई 19 किलोमीटर खुले चैनल 4 किलोमीटर सुरंग पर एक मोड़ पर विचार किया गया है यह बांध 1957 में पंजाब सिंचाई विभाग तैयार की गई पहली परियोजना थे। यह परियोजना 1963 में मंजूरी दी गई थी और 1977 में पूर्णरूपेण से बनकर तैयार हो गया था।

rewalsar lake | रिवालसर झील

यह झील मंडी से लगभग 25 किलोमीटर दूरी पर स्थित है। यह झिल अपने रीड के द्वीपों के लिए लोकप्रिय माना जाता है। इस झील में सात द्वीप हवा और पर्थना से हिलते हैं। प्रार्थना के लिए यहां का एक बौद्ध मठ हिंदू मंदिर और एक सिख गुरद्वारा मौजूद है। इन तीनों धार्मिक संगठनों की ओर से यहां नौकायन की सुविधा मुहैया कराई जाती है इस स्थान पर बहुत शिक्षक ने अपने एक शिष्य को धर्मोपदेश देने के लिए नियुक्त किया गया था यहां पर अनेक मनोहर स्थल है। जहां कोई फिल्म की शूटिंग भी किया जाता है यहां पर मां नैना देवी की कल हीट में स्थित त्रिवेणी के नाम से जाना जाता है। how to visit rewalsar lake (रिवालसर झील) इस झील की यात्रा के लिए आप शिमला से मनाली जाना पड़ेगा उसके बाद इस झील को आप आसानी से घूम सकते हैं यहां पर जाने के लिए आपको दिल्ली चंडीगढ़ से बस आसानी से मिल जाएंगे और आप आसानी से घूमने के लिए जा सकते हैं। bhima kali temple (भीमा काली मंदिर) यहां का प्रसिद्ध मंदिर है जो कि यहां पर भक्त हजारों की संख्या में दर्शन ने के लिए आते हैं।

sunder nagar | सुंदर नगर

यह नगर मनाली से लगभग 26 किलोमीटर दूर अपने मंदिरों के लिए प्रसिद्ध मानी जाती है। यह एक खूबसूरत हरी-भरी घाटियों के क्षेत्र में ऊंचे ऊंचे पेड़ों की छाया मैं चलना बहुत ही सुखद अनुभव होता है। पहाड़ी के ऊपर यह नगर वाटिका और महामाया का मंदिर मौजूद है जहां साल भर हजार भक्त दर्शन में के लिए आते हैं। यह एक एशिया का सबसे बड़ा हाइड्रो इलेक्ट्रिक प्रोजेक्ट सुंदरनगर का ही हिस्सा है। यहां पर एक अत्यंत मनोहर झील भी मौजूद है। यहां पर पर्यटक यात्रा के दौरान यहां की सुंदरता को देखकर मनमोहित हो जाते हैं। यहां की हरी-भरी घास है कि मैदान पहाड़ियों देखने में काफी सुंदर लगता है। यहां पर शांत वातावरण पर्यटकों के लिए एकदम सही जगह के रूप में है। sunder nagar himachal pradesh (सुंदर नगर हिमाचल प्रदेश) के मंडी जिले में स्थित है। या नगर यहां का सबसे खूबसूरत नगरों में से एक माना जाता है यहां के यात्रा के दौरान शीतला माता व कुमारी माता का मंदिर का दर्शन हो जाते हैं यहां संस्कृत पढ़ने का एक उत्तम व्यवस्था है। sunder nagar delhi (सुंदर नगर दिल्ली) से घूमने के लिए आ रहे हैं तो आपको यहां से आने के लिए आसानी से बस मिल जाएंगे आप बस की यात्रा से यहां तक आसानी से पहुंच सकते हैं। sunder nagar himachal (सुंदर नगर हिमाचल) का सबसे प्रसिद्ध पर्यटन स्थल के रूप में जाना जाता है

ahuja residency sunder nagar (आहूजा रेजीडेंसी सुंदर नगर) दिल्ली में भी स्थित है। sunder nagar diwali mela (सुंदर नगर दिवाली मेला) के लिए प्रसिद्ध माना जाता है। sunder nagar pin code 175019

tattapani | तत्तपानी

tattapani
tattapani

इसका अर्थ गर्म पानी होता है जो चारों और पहाड़ों से गिरा तत्व पानी सतलुज नदी से सतलुज नदी घाटी पर स्थित है। यह जिस घाटी पर स्थित है वह जगह बेहद खूबसूरत जगह माना जाता है। यह समुद्र तल से लगभग 656 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। प्राकृतिक सल्फर युक्त इसका पानी बहुत सुखद और अलौकिक शक्तियों से युक्त मानते हैं। यहां के लोगों का कहना है कि इसके पानी से बहुत से राजाओं के शरीर के रोग ठीक हो गए थे सतलुज नदी के जल में उतार चढ़ाव के साथ इसके जल में बहुत अशुद्धियों भी पाई जाती है यहां पर नहाने से चर्म रोग की बीमारी छूट जाती है। यहां पर आप वाटर राफ्टिंग भी कर सकते हैं। एक्टिंग के लिए बहुत प्रसिद्ध माना जाता है। tattapani shimla (तत्तपानी शिमला) के नजदीक में ही स्थित है। tattapani himachal pradesh (तत्तपानी हिमाचल प्रदेश) के वॉटर राफ्टिंग के लिए सबसे प्रसिद्ध माना जाता है।‌ tattapani himachal (तत्तपानी हिमाचल) यहां पर घूमने के लिए पर्यटन स्थल के साथ-साथ धार्मिक स्थल भी मौजूद है यहां पर रोमांटिक के लिए कई सारे हंस थाने मौजूद है जहां पर पर्यटक खेलकूद भी कर सकते हैं। tattapani to shimla लगभग 53 किलोमीटर की दूरी पड़ता है। इन दोनों के बीच ट्रैकिंग के दौरान यहां की खूबसूरती यों को अच्छी तरह से देखा जाता है।

kamru nag lake | कमरुनागा झील

यह झील 3334 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। कमुना का झील के अलावा मंदिर के लिए भी यह स्थान जाना जाता है। धोलाधारा रेंज और बलह घाटी का दृश्य देखने में काफी सुंदर लगता है जहां देव करुणा का की झील और पेंट छत मंदिर देवदार के मोटे जंगल से घिरा हुआ है। यहां के लोगों का मानना है कि परंपरा के अनुसार कमरूनाग महाभारत का राजा यक्ष और पांडवों ने पूजा की थी। झील के तल पर स्थित अन्य धातु के सोने-चांदी और सिक्कों की मात्रा का आकलन करना संभव नहीं है। प्राकृतिक प्रेमियों के लिए कमरूनाग आ की यात्रा स्वर्ग के समान माना जाता है। कमरुनाग मंडी जिले में सबसे ज्यादा पूजनीय देवताओं का मंदिर स्थित है। यहां पर वर्षा का देवता भी कहा जाता है। यहां पर हर वर्ष जून-जुलाई के महीने में मेला का आयोजन किया जाता है यहां के मेलों में हजारों लोग पैदल यात्रा करके यहां पहुंचते हैं यहां तक श्रद्धालु वाया चैलचौक, रोहांडा, करसोग, से होकर यहां पर आते हैं। यहां पर पर्यटक शांत वातावरण का भी आनंद लेते हैं।

anjali barot | अंजलि बरोट

barot (बरोट) एक शानदार पिकनिक स्थल के रूप में लोकप्रिय माना जाता है। यह मंडी से लगभग 65 किलोमीटर दूर मंडी पठानकोट हाईवे पर स्थित है यहां का रोपवे और फिशिंग की सुविधाएं पर्यटकों को काफी आकर्षित कर लेता है। barot house (बरोट घर) यह हाउस एक दृश्य के लिए खुलता है। बरोट परिवार को स्वर्ग में उनके निवास में दिवाली समारोह का आनंद लेते देखा जाता है परिवार में अतीत साथ और मंजरी फडनीस शामिल रहते हैं। barot valley (बरोट घाटी) 1835 मीटर की ऊंचाई पर स्थित उहन नदी के तट पर एक सुंदर जगह पर स्थित है। यहां पर ट्राउट फिश फार्म के लिए प्रसिद्ध माना जाता है। अंग्रेज के द्वारा निर्मित की गई पावर प्रोजेक्ट का जलाशय जो कि यहां की सुंदरता को और बढ़ा देती है। यह क्षेत्र 278 वर्ग किलोमीटर में फैला हुआ है यहां पर नर्गू वन्य जीव अभ्यारण का गेटवे भी है। यहां पर मोनोरेल जंगली बिल्ली बंदरों और काले बालों का घर बना हुआ है। बरोट कुल्लू और कांगड़ा घाटी के ट्रैकिंग मार्ग का भी आधार बना हुआ है। यह क्षेत्र सब्जी और दालों के उत्पादन के लिए प्रसिद्ध है। यहां के चारों ओर खूबसूरत दृश्य को देखने में काफी आनंद आता है

बरोट घूमने के लिए आप हवाई मार्ग की भी यात्रा कर सकते हैं यहां का सबसे निकटतम हवाई अड्ड गग्गल हवाई अड्डा है जो कि यहां से लगभग 114 किलोमीटर दूरी पड़ता है दूसरी हवाई अड्डा भूंतर है। जो कि यहां से लगभग 123 किलोमीटर दुरी पड़ता है। यदि आप ट्रेन के माध्यम से यहां तक आना चाहते हैं तो हम आपको बता दें कि यहां के सबसे निकटतम रेलवे स्टेशन जोगिंदर नगर है जो कि यहां से लगभग 40 किलोमीटर है। यदि अक्षय कुमार के माध्यम से यहां तक आना चाहते हैं तो हम आपको बता दें कि मंडी राष्ट्रीय उच्च मार्ग बड़े-बड़े शहरों से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है जैसे दिल्ली चंडीगढ़ के लिए अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है।

kamlah fort | कमलाह किला

kamlah fort
kamlah fort

यह किला मंडी के कमलाह गांव में स्थित है। जोकि समुद्र तल से लगभग 4772 फीट की ऊंचाई पर स्थित है यह हमीरपुर जिले के पास है। जो सिकंदर धररेंज के अंतर्गत आता है इस किला को लगभग 16 से 25 ईसवी में राजा सूरज सेन ने बनवाया था। कुछ समय बाद में 18 से 40 ईसवी में इसे वेनतूरा द्वारा नष्ट कर दिया गया। जो महाराजा रंजीत सिंह का जनरथ के रूप में जाना जाता था। किले को मंडी के राजा द्वारा फिर से निर्मित करवा दिया गया था। इस किला को मंडी के राजा फिर से निर्मित करवा दिया था ज्योतिष का नाम यहां के संत कमलाह बाबा के नाम पर रख दिया गया था। kamlah fort mandi (कमला किला मंडी) का सबसे प्रमुख पर्यटन स्थल के रूप में भी जाना जाता है।

Famous food Mandi | मंडी का प्रसिद्ध भोजन

Mandi Tourist places
Mandi Tourist places

हम आपको बता दें कि यदि आप यहां की यात्रा करना चाहते हैं तो आप यहां का प्रसिद्ध भजनों का भी आनंद जरूर ले यहां के होटलों रिजॉर्ट्स में परोसे जाने वाले भोजनओं में विभिन्न व्यंजन रहते हैं। यहां का सबसे प्रसिद्ध भजनों में मीठा चावल, चपाती, दाल, सब्जी ग्रेवी सलाद, अचार के साथ परोसा जाता है। यहां के रेस्टोरेंट्स में अत्यधिक मात्रा में मिलने वाले व्यंजन जैसे आलू टिक्का, समोसा, मनोज जैसी व्यंजन आसानी से मिल जाती है। यह सभी व्यंजन यहां के सभी होटल रिजॉर्ट्स मैं मौजूद रहते हैं।

How to reach Mandi | कैसे पहुंचे मंडी

यदि आप हिमाचल प्रदेश का भूंतर हवाई अड्डे मंडी का निकटतम हवाई अड्डा है जो कि यहां से लगभग 60 किलोमीटर दूरी पर स्थित है आप हवाई मार्ग के माध्यम से आसानी से पहुंच सकते हैं। यदि आप रेल मार्ग के माध्यम से आना चाहते हैं तो हम आपको बता दें कि यहां के सबसे निकटतम रेलवे स्टेशन किरतपुर में स्थित है जो कि यहां से लगभग 125 किलोमीटर पड़ता है। यदि आप सर कुमार के माध्यम से आना चाहते हैं तो हम आपको बता दें कि चंडीगढ़ और पठानकोट शिमला कुल्लू मनाली और दिल्ली से मंडी आसानी से पहुंच सकते हैं हिमाचल प्रदेश पर्यटन विकास निगम की अनेक बसे मनाली, कुल्लू, शिमला और दिल्ली से चलती है जो कि राष्ट्रीय राजमार्ग तीन और राष्ट्रीय राजमार्ग 154 यहां से गुजरती है। आप यहां पर सड़क मार्ग के माध्यम से आसानी से पहुंच सकते हैं।

Mashobra Tourist places & Famous Food

निष्कर्ष

तो दोस्त हमने इस पोस्ट में हिमाचल प्रदेश के मंडी जिले के प्रमुख पर्यटन स्थल के बारे में जानने। और यहां का सबसे प्रसिद्ध भोजन और आने जाने की व्यवस्था के बारे में भी जानने। यदि आपको यह पोस्ट अच्छी लगी हो तो आप हमें कमेंट बॉक्स में कमेंट करके जरूर बताएं। यदि आप हिमाचल प्रदेश के प्रमुख पर्यटन स्थल मंडी की यात्रा के लिए तैयारी कर रहे हैं। तो आपकी यात्रा कुशल मंगल हो। धन्यवाद

Related Stories

Discover

Best No1 Kolhapur Tourist Places & Famous Food

Kolhapur Tourist Places & Famous Food महाराष्ट्र के प्रमुख पर्यटन स्थल कोल्हापुर के बारे में...

Best No1 Visapur Fort Mumbai & Famous Food

Visapur Fort Mumbai & Famous Food मुंबई के प्रमुख पर्यटन स्थल के बारे में जानेंगे...

Best No1 Bhushi Dam Mumbai & Famous Food

Bhushi Dam Mumbai & Famous Food महाराष्ट्र राज्य के मुंबई में घूमने वाले लोनावाला प्रसिद्ध...

Best No1 Rajmachi Mumbai & Famous Food

Rajmachi Mumbai & Famous Food महाराष्ट्र के प्रमुख पर्यटन स्थल राजमाची किला और लोहागढ़ किला...

Best No1 Lonavala Fort Mumbai & Famous Food

Lonavala Fort Mumbai & Famous Food मुंबई के प्रमुख पर्यटन स्थल लोनावाला किले के बारे...

Best No1 lohagad fort Mumbai & Famous Food

lohagad fort Mumbai & Famous Food मुंबई के प्रमुख पर्यटन स्थल लोहागढ़ किला के बारे...

Popular Categories

error: Content is protected !!