dal lake

No1 Best Dal Lake Tourism Places & Famoum Food

No1 Best Dal Lake Tourism Places & Famoum Food

हिमाचल प्रदेश के धर्मशाला और डल झील के आसपास के प्रमुख पर्यटन स्थल के बारे में जानेंगे और यहां के सबसे प्रसिद्ध भोजन के बारे में भी जानेंगे तो दोस्त बने रहिए टूरिज्म प्लेस के बारे में जानने के लिए।

national war memorial | नेशनल वॉर मेमोरियल

national war memorial
national war memorial

राष्ट्रीय युद्ध स्मारक हिमाचल प्रदेश के डल झील से लगभग 10 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है और या धर्मशाला में देखने की खास जगह में से एक माना गया है यह स्मारक शहर के पास देवदार के जंगलों में स्थित है। और यह जगह यात्रा करने के लिए प्रमुख पर्यटन स्थल माना गया है। यहां एक सुंदर जीपीजी कॉलेज है जिसका निर्माण ब्रिटिश काल के दौरान किया गया था यह स्मारक जो धर्मशाला के प्रवेश बिंदु पर उन लोगों की याद में बनाया गया है जिन्होंने देश की मातृभूमि की रक्षा के लिए लड़ाई लड़ी थी। इस राष्ट्रीय युद्ध स्मारक के अलावा भारत देश में दिल्ली में नया बनाया गया है तो दोस्त चलते हैं थोड़ी सी जानकारी वहां का भी ले लेते हैं वहां के आसमानों को में क्या चीज का आविष्कार किया गया है। तो दोस्त बने रहिए टूरिज्म प्लेस के बारे में जानने के लिए Dal Lake Tourism Places 

राष्ट्रीय युद्ध स्मारक भारत सरकार ने नई दिल्ली के इंडिया गेट के आसपास के क्षेत्र में अपने स्वतंत्र बलों को सम्मानित करने के लिए बनवाया गया है। यह 60 साल के बाद भारत के सैनिकों का इंतजार खत्म हुआ है भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वीर शहीद की याद में दिल्ली के इंडिया गेट के पास बनाए गए नेशनल वॉर मेमोरियल का उद्घाटन 25 फरवरी 2019 में किया था। यह स्थान आजादी के बाद कई बार लड़ाई लड़ने वाले भारत के वीर सैनिकों की याद और सम्मान के रूप में इस युद्ध स्मारक को बनाया है। राष्ट्रीय युद्ध स्मारक लगभग 40 एकड़ में फैले हुए हैं इसे बनाने में लगभग 176 करोड रुपए की लागत खर्च आई थी। यह स्मारक हेक्सागोन के आकार में बने इस एक मेमोरियल के केंद्र में 15.5 मीटर ऊंचा स्मारक स्थल भी स्थित है। इसके नीचे ज्योति जलती रहेगी। इस स्मारक में शहीदों के नाम और 21 परमवीर चक्र विजेताओं की मूर्ति भी लगाई गई है। यदि आप इस नेशनल वॉर मेमोरियल के बारे में अच्छी तरह से जानना चाहते हैं तो नीचे दिए गए आर्टिकल को जरूर पढ़ें। Dal Lake Tourism Places 

राष्ट्रीय युद्ध स्मारक को क्यों बनाया गया – Why The National War Memorial Was Built

इसे बनाने के लिए 60 साल पहले तब उठी थी। जब प्रथम विश्व युद्ध और अफगान अभियान में भारत के करीब 84000 वीर सैनिक शहीद हुए थे और उनकी याद में अंग्रेज के द्वारा इंडिया गेट बनाया गया था। कुछ समय बाद 1971 अमर जवान ज्योति का निर्माण करवाया था। जो भारत पास युद्ध में शहीद हुए सैनिक 3843 समर्पित है। यह दोनों स्मारक किसी खास लड़ाई में शहीद सैनिकों को समर्पित के लिए बनवाया गया था। भारत की आजादी के बाद कई युद्ध लड़े गए उसमें कई सैनिक ने अपनी जान गवा दी उन सभी सहीदो जवानों की कुर्बानी को याद और उनके सम्मान के रूप में समर्पित एक राष्ट्रीय स्मारक की जरूरत को महसूस हुई की एक स्मारक को बनाना आवश्यक है। शहीद के सम्मान में स्मारक बनने की मांग सबसे पहले 60 साल पहले उठाई गई थी। लेकिन कुछ समय बाद मोदी सरकार ने 2015 को इसको बनाने की आमंत्रित मंजूरी दी और अब करीब 3 साल के बाद यह स्मारक बन कर तैयार हो गया है।  Dal Lake Tourism Places 

About The National War Memorial – राष्ट्रीय युद्ध स्मारक में क्या है।

इस राष्ट्रीय युद्ध स्मारक में चार चक्र है। जिसमें से सबसे अंदर अमर चक्र बने हुए हैं। जिसमें एक 15.5 मीटर ऊंचा स्मारक स्तंभ के रूप में स्थित है। जिसमें अमर ज्योति जलेगी। लेफ्टिनेंट जनरल पीएस राजेश्वर ने कहा कि यह अमर ज्योति शहीद सैनिकों के आत्मा को शांति के लिए अमरता के रूप में जलती रहेगी और देश के उन बलिदान को कभी नहीं भूलेंगे जो सैनिकों को अपने बलिदान दिए हुए हैं। दूसरी लेयर में वीरता चक्र है जिसमें भारतीय सेना आर्मी एयर फोर्स और नेवी के द्वारा लड़ी गई खास खिलाड़ियों को इस चक्र में बताया गया है। तीसरे चक्र जो 25700 सैनिकों के नाम जिन्होंने आजादी के बाद देश के अपने जान दिए थे। Dal Lake Tourism Places 

इन सभी शहीद हुए जवानों के नाम हम आपको बता दें कि 1.5 मीटर की दीवार पर लिखे गए हैं। सुरक्षा चक्र में 695 पेड़ जो देश की रक्षा मे तैनात जवानों को दर्शाती है। यहां पर शहीद हुए जवानों के यहां के दीवारों में लिखी गई है। यहां पर सैनिक के जन्म से लेकर शहीद होने तक का जिक्र किया गया है यहां पर एक ऐसा गैलरी भी है जहां पर सैनिकों की बहादुरी प्रदर्शित किया गया है यह एक स्मारक उन शहीदों की कहानी को बताता है जिन्होंने देश को सुरक्षित रखने के लिए अपनी जान कुर्बान कर दी है। राष्ट्रीय युद्ध स्मारक का मुख्य वास्तुकार योगेश चंद्र हासन है इन्होंने ही इसा स्मारक का डिजाइन निकाला है। इसे kargil war memorial (कारगिल युद्ध स्मारक) भी कहा जाता है। Dal Lake Tourism Places 

National War Memorial Timing – राष्ट्रीय युद्ध स्मारक का समय

नेशनल वर मेमोरियल पर्यटकों के लिए प्रतिदिन खुली रहेगी। यहां के सबसे प्रमुख बात यह है कि यहां पर घूमने के लिए कई एंट्री फीस नहीं ली जाती है। यहां पर साल में नवंबर से अप्रैल से सुबह 9:00 बजे से शाम 6:30 बजे तक खुली रहती है और अप्रैल से अक्टूबर तक सुबह 9:00 बजे से शाम 7:30 बजे तक खुली रहती है यहां पर फूल चढ़ाने की रस्म का आयोजन भी किया गया है प्रतिदिन यहां पर सूर्यास्त के पहले रिट्रीट सेरेमनी होती है और हर रविवार को सुबह 9:30 बजे चेंज ऑफ गॉड सेरेमनी का आयोजन किया गया है जो कि करीब 30 मिनट तक चलती है। Dal Lake Tourism Places 

  1. john in the wilderness church | अनुसूचित जनजाति | जंगल चर्च में जॉन

सेंट जॉन इन द वाइल्डरनेस एक एंग्लिकन चर्च है। जो कि जॉन द बैपटिस्ट को समर्पित में है। इस चर्च को 18 सो 52 में बनाया गया था। यह भारत के धर्मशाला के पास मैक्लॉड गंज के रास्ते में फोर्सिथ गंज में स्थित है। Dal Lake Tourism Places 

gyuto monastery | ग्युतो मठ

अहमद धर्मशाला से लगभग 6 किलोमीटर दूर पर स्थित है जो कि पर्यटन का एक लोकप्रिय आकर्षण अस्थान के रूप में जाना जाता है। यह मंदिर तिब्बत बौद्ध धर्म के एक प्रमुख स्कूल कर्मा काग्यू के प्रमुख करमापा के लिए मठ है। इस मठ की स्थापना तिब्बती सैनिकों की स्मृति में की गई है जिन्होंने तिब्बती को स्वतंत्रा के लिए अपनी जान गवाही थी। यहां पर एक अद्भुत जैसी संरचना भी है जो उन संरचनाओं की तरह है जिनका निर्माण सम्राट अशोक ने 3 वीं शताब्दी के दौरान किया था। यह मठ यहां के आसपास के शहर से बस और टैक्सी के माध्यम से यहां तक आसानी से पहुंच सकते हैं। gyuto monastery dharamsala (ग्युतो मठ धर्मशाला) के प्रमुख पर्यटन स्थल के रूप में जाना जाता है।

history of bhagsunag temple | भागसुनाथ मंदिर का इतिहास

bhagsunag temple (भागसुनाग मंदिर)० इस मंदिर में सुंदर तालाब और हरे बड़े हरियालो से गिरे हुए यह मंदिर बहुत ही सुंदर देखने में लगता है। भागसुनाग मंदिर मैकलोडगंज से लगभग 3 किलोमीटर दूरी पर स्थित है। यह मंदिर सबसे प्राचीन मंदिर में से एक माना जाता है। यह मंदिर यहां के भागसुनाथ के नाम से भी प्रसिद्ध है जोकि स्थानीय गोरखा और हिंदू समुदाय द्वारा अत्यधिक पूजन किए जाते हैं। इस मंदिर के प्रांगण में 2 कुंड को बेहद पवित्र माना जाता है। और यहां के लोगों का मानना है कि इनमें उपचार की चमत्कारिक शक्तियां है। हम आपको बता दें कि भागसुनाथ मंदिर इस लिए प्रसिद्ध है भागसु झरनों की यात्रा के दौरान यहां के रास्तों में पड़ता है और पर्यटक इस मन्दिर के प्रांगण में आशीर्वाद के लिए रुकते हैं यहां पर रुकने के बाद आगे की यात्रा के लिए यहां से निकलती है। या मंदिर यहां पर घूमने आने वाले पर्यटकों के लिए सबसे आकर्षित मंदिर होता है इस मंदिर में पूजन के लिए दूर-दूर से पर्यटक आते हैं। Dal Lake Tourism Places 

dal lake | डल झील

dal lake
dal lake

यह झील हिमाचल प्रदेश के कांगड़ा जिले में एक प्रसिद्ध झील के रूप में स्थित है। जिसका नाम कश्मीर की डल झील पर रखा गया है। डल झील हिमाचल प्रदेश के सबसे लोकप्रिय पर्यटन स्थल के रूप में जाने जाते हैं। यहां के दृश्य को देखने के बाद बहुत ही मनमोहक जाते हैं। यहां पर पर्यटकों की बहुत काफी भीड़ होती है। dal lake dharamshala (डल झील धर्मशाला) मैं इस्थित शांतिपूर्ण समय बिताने और मछली को देखने के लिए बेहद खास जगह है। डल झील 1775 मीटर की ऊंचाई पर हरे भरे देवदार के जंगल से गिरा हुआ है झील के किनारे यहां पर शिव मंदिर भी मौजूद है जो झील को एक पवित्र स्थान के रूप में जाना जाता है। यदि आप सभी हिमाचल प्रदेश की प्रसिद्ध डल झील घूमने जाने वाले हैं तो इस जगह पर एक बार जरूर घूमे। dal lake mcleodganj (डल झील मैकलोडगंज) से बहुत ही कम दूरी पर स्थित हैं। Dal Lake Tourism Places 

Things To Do Naja Dharamshala At Dal Lake – धर्मशाला में डल झील पर क्या क्या कर सकते हैं

डल झील की यात्रा के दौरान आपके लिए बेहद खास साबित हो सकता है क्योंकि इस झील की शेयर करते समय बहुत से काम कर सकते हैं यहां पर आप पिकनिक ट्रैकिंग का आनंद के साथ यहां के मनोरम दृश्य को खूबसूरत पहाड़ियों की तस्वीर देखने के लिए मिलता है। यहां के हरे-भरे जंगलों को देखने में काफी सुंदर लगता है। यहां पर सर्दियों के मौसम में इस जगह पर बर्फ से भरा हुआ रहता है जिससे पेड़ के ऊपर देखा जा सकता है जो कि प्राकृतिक का एक शानदार दृश्य देखने के लिए मिलता है। इस झील के किनारे दोपहर में शांति भरा समय बिताना और मछलियों को देखना निश्चित रूप से यहां करने की सबसे शांतिपूर्ण गतिविधियों माना गया है। यहां पर घूमने वाले पर्यटक यहां स्थित सुंदर शिव मंदिर को देखने के लिए भी जाते हैं और इस मंदिर के पास साल में एक मेला का भी आयोजित किया जाता है। Dal Lake Tourism Places 

dalai lama temple | दलाई लामा मंदिर

यह मंदिर तिब्बती संस्कृति से परिपूर्ण दलाई लामा मंदिर परिसर जिसे त्युगलाखंग मंदिर भी कहा जाता है। यह मंदिर धर्मशाला मैं एक राजनीतिक धार्मिक केंद्र के रूप में भी जाना जाता है। दलाई लामा मंदिर परिसर बौद्धिक के लिए श्रद्धेय तीर्थ स्थल के रूप में बनाया गया है। इन सभी के अलावा यहां का शांतिपूर्ण वातावरण दुनिया भर में पर्यटकों को बेहद आकर्षक बनाता है। यह मंदिर डल झील से लगभग 4 किलोमीटर दूरी पर स्थित है। dalai lama temple mcleodganj (डल दलाई लामा मंदिर मैकलोडगंज) का सबसे प्रसिद्ध स्थान माना गया है। dalai lama temple dharamsala दलाई लामा मंदिर धर्मशाला का सर्वश्रेष्ठ मंदिर के रूप में जाना जाता है। Dal Lake Tourism Places 

bhagsu falls | भाग्सू फॉल्स

जो पर्यटक धर्मशाला घूमने के लिए आते हैं तो डाल झील से भाग्सू फॉल्स की यात्रा जरूर करें यह पर्यटक के लिए सबसे अच्छी जगह मानी गई है। यहां पर हरियाली और प्रकृति के बीच बने सबसे प्राचीन रूप में स्थापित है। जो राजेश और बेहद भव्य लगता है। भाग्सू फॉल्स धर्मशाला की यात्रा करने वाले सभी पर्यटकों को इस जगह जरूर जानी चाहिए यह डल झील से लगभग 5 किलोमीटर दूरी पर स्थित है। यह पर्यटकों के लिए सबसे प्रसिद्ध घूमने वाले स्थानों के रूप में जाना जाता है। bhagsu falls mcleodganj (भाग्सू फॉल्स मैकलोडगंज) से कुछ ही दूरी पर स्थित है। यहां का और कई प्रसिद्ध पर्यटन स्थल भी है जैसे kalachakra temple यह मंदिर यहां का सबसे प्रसिद्ध मंदिरों में से एक माना जाता है।

Jwala Devi Temple ज्वाला देवी मंदिर में दूर-दूर से पर्यटन घूमने के लिए भी आते हैं। यह मंदिर डाला झील से लगभग 61 किलोमीटर दूरी पर स्थित है। Dal Lake Tourism Places 

masroor rock cut temple

यह मंदिर धर्मशाला मैं कंगना से लगभग 48 किलोमीटर दूरी पर मशरूम रॉक कट मंदिर स्थित है यह एक पुरातात्विक स्थान है। जो वर्तमान में एक खंडहर हुआ करता था। मशरूम रॉक कट मंदिर डल झील से लगभग 65 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। Dal Lake Tourism Places 

tea garden | चाय बागान

tea garden
tea garden

चाय बागान पालमपुर हिमाचल प्रदेश की कांगड़ा घाटी में एक प्रकृति के रूप में हिल स्टेशन है। जो कि चाय बागान और देवदार के जंगलों से घिरे हुए हैं। यह उत्तर पश्चिम भारत की चाय की राजधानी है। यहां का चाहिए एक ऐसा पहलू नहीं है जो पालमपुर को एक विशेष रूचि स्थल रूप में बनाता है। tea garden dharamshala यहां का सबसे प्रसिद्ध उद्योग है। यहां पर घूमने जाने वाले पर्यटक को के लिए एक प्राकृतिक प्रेमी के लिए बहुत खास जगह साबित होता है इस क्षेत्र को 19वीं शताब्दी में चाय भगवानों की अवधारणा शुरू की गई थी तब से यह स्थान अपनी विशेष चाय के लिए काफी प्रसिद्ध हो गया है। यहां की चाय इतनी अच्छी है कि इसका 90% देश के बाहर निर्यात किया जाता है। यदि आप पालनपुर की यात्रा कर रहे हैं तो यहां चाय के बागानों में एक बार जरूर घूमे यहां पर घूमने में आपको यहां की खूबसूरती को देखने में बहुत ही आनंद आएंगे। tea garden images चाय बागान का दृश्य देखने में काफी सुंदर लगता है। Dal Lake Tourism Places 

Famous Food

Dal Lake Tourism Places
Dal Lake Tourism Places

यहां का स्थानीय भोजन यहां पर घूमने वाली जगह की संख्या अत्यधिक मात्रा में है यहां खाने के लिए कई विकल्प मिल सकते हैं यहां पर पहाड़ी और जैन भोजन अच्छी तरह से उपलब्ध है यहां के कई होटलों में उत्तर भारतीय चीनी और कॉन्टिनेंटल व्यंजनों परोसा जाता है। यहां के लोकप्रिय स्थानीय भोजन में सेपू वड़ी, भटूरा, चना मदरा, ट्राउट मछली, मीठे चावल, पटंडे मोमोज, कद्दू का खट्टा, चिकन, अनारदाना नूडल्स यहां के सबसे प्रसिद्ध भोजन हैं। Dal Lake Tourism Places 

No1 Best Chail Tourism Places & Chail Food

निष्कर्ष

तो दोस्त हमने आज हिमाचल प्रदेश के धर्मशाला और डल झील के बारे में जाने तो दोस्त यदि आपको यह पोस्ट अच्छी लगी हो तो आप हमें कमेंट बॉक्स में कमेंट करके जरूर बताएं। तो दोस्त बने रहिए Tourism Places के बारे में जानने के लिए। Dal Lake Tourism Places 

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!